Save 4500 Trees (Phase 1 only) and Ajni Van in Nagpur

3748+

people have already submitted their Inputs. Have you?



Description:

Ajni Vann the green cover within Nagpur city will face axe on 40000 trees for Inter Modal Station proposed by NHAI. The environmentalists are fighting to shift this project to Khapri location, which was the alternate proposed site of IMS by NHAI. Here's how you can send your objection to #SaveAjniVann and #ShiftIMStoKhapri

How do I help? It's simple.

E-mail the inputs in 2 easy steps (less than 1minute!).

Fill in your info, press the button, an automated email with your details at the end will be generated.

Click SEND

Currently compatible only for mobile. Please do not mail more than once.

Please Note : All the data collected for sending the objections to NMC for saving the trees, is to keep a check on the number of people who have sent it. This data will be collected by SaveAjniVan Team and will not be used for any other purpose.

Objection to tree cutting and or translocation of trees from their original location (4522 for IMS and 408 for flyover leading to project).




Ref- Public Notice Advt. No. 58/PR (dated 29/05/2021 and again new notice dated 02/06/2021)
Respected Sir, I, object and oppose the felling/cutting and/or translocation of the proposed 4522 and 408 trees for the IMS project at Ajni and also for the said flyover leading to IMS project site. I have visited the premises and some of my points for opposing are given below.
My points of Objection:
1) Huge loss of free oxygen producing sources for humans would result due to these tree cuttings. In the pandemic many citizens have spent thousands of their hard-earned money to buy oxygen in cylinders. Hon. Supreme Court had also framed guidelines about the value of oxygen given by trees. It is requested that the same values be kept in mind for the trees which are proposed to be cut.
2) Land does not belong to NHAI. Then how can NMC grant them permission based on their application?
3) NHAI is giving details of tree cuttings/translocation in parts only (i.e. 4522 trees in IMS phase-1). Why is the total number of trees that are going to be affected for all phases of construction not shown? NMC is kept in the dark about this fact. No environmental clearance is taken. No Environment Impact Assessment is done.
4) Around 56 species of different trees are proposed to be cut. Will compensatory plantation ensure this type of bio-diverse species?
5) Trees not only give free oxygen but also clean polluted air and help in holding the soil together.
6) In 2019 RCC of ISRO had given a report stating that over 30% of green cover (one third in area) was lost in the past few decades in Nagpur. This is alarming and cutting of such a huge number of trees will lead to more reduction in green cover.
7) IMS project is a luxury project which can be relocated but trees cannot be transplanted as all past experiences were failures. All translocations of trees in the past in Nagpur have been failures and cost a huge amount of taxpayers money. Survival is zero. All species cannot be translocated. Nagpur climate doesn’t suit such processes.
8) Compensatory plantation of executing agencies is also mostly on paper and unsuccessful. NHAI compensatory plantation work is unsuccessful and survival rates are very low in most projects. Therefore any number of compensatory plantations cannot replace cut trees which are many years old.
9) These trees are habitat for many birds and control the micro climate. Cutting them would destroy homes of birds, insects which are pollinating agents as well as essential parts of biodiversity.
Above mentioned points compel me to raise strong objections against such perpetrators of mass scale destruction in a city like Nagpur. Kindly acknowledge my objection.
Thank you.
Yours faithfully,

वृक्ष तोडण्यास किंवा त्यांच्या मूळ स्थानावरून झाडाचे स्थलांतर करण्यास आक्षेप (आयएमएससाठी 4522 आणि प्रकल्प सुरू होणार्‍या उड्डाणपुलासाठी 408).





प्रति
वृक्ष प्राधिकरण आणि उद्यान अधीक्षक,
उद्यान विभाग,
नागपूर महानगरपालिका
सिव्हिल लाईन्स,
नागपूर- 440001

विषयः वृक्ष तोडण्यास किंवा त्यांच्या मूळ स्थानावरून झाडाचे स्थलांतर करण्यास आक्षेप (आयएमएससाठी 4522 आणि प्रकल्प सुरू होणार्‍या उड्डाणपुलासाठी 408).

संदर्भ- सार्वजनिक सूचना अ‍ॅड. क्रमांक 58 / पीआर (दि. 29/05/2021 आणि पुन्हा नवीन नोटीस दिनांक 02/06/2021)
आदरणीय सर,
मी स्वाक्षरी केली,अजनी येथे आयएमएस प्रकल्पासाठी प्रस्तावित 4522 आणि 408 वृक्षतोड आणि कटिंग / कटिंग आणि / किंवा स्थलांतर विरोधात तसेच आयएमएस प्रकल्प साइटकडे जाणाऱ्या उड्डाणपुलासाठी मी विरोध केला आहे. मी परिसराला भेट दिली आहे आणि विरोध करण्यासाठी माझे काही मुद्दे खाली दिले आहेत.
माझे आक्षेप मुद्दे:
१) मानवाने मुक्त ऑक्सिजन उत्पादित स्त्रोतांचे मोठ्या प्रमाणात नुकसान केले तर त्याचे परिणाम या झाडं तोडीमुळे होतील. सध्या जो साथीचा रोग सर्व देशभर पसरलेला असतांना सिलेंडर्समध्ये ऑक्सिजन खरेदी करण्यासाठी अनेक नागरिकांनी कष्टाने कमावलेली हजारो रक्कम खर्च केली आहे. मा. झाडांनी दिलेल्या ऑक्सिजनच्या मूल्याबद्दल सुप्रीम कोर्टाने मार्गदर्शक सूचना देखील तयार केली होती. वृक्ष तोडण्यासाठी प्रस्तावित असलेल्या या वृक्षांविषयी जनतेस जाणून घेण्यासाठी समान मूल्ये तयार करण्याची विनंती केली जात आहे.
२) जमीन एनएचएआयची नाही. मग त्यांच्या अर्जाच्या आधारे मनपा त्यांना परवानगी कशी देऊ शकते?
3) एनएचएआय केवळ भागांमध्ये झाडे तोडणे / लिप्यंतरणाचे तपशील देत आहे (म्हणजेच आयएमएस फेज -1 मधील 4522 झाडे) बांधकामाच्या सर्व टप्प्यांत मोजलेल्या एकूण झाडांची संख्या का दर्शविली जात नाही? या वस्तुस्थितीबाबत मनपाला अंधारात ठेवले आहे. वातावरणाची कोणतीही मंजुरी घेतली जात नाही. पर्यावरण प्रभाव मूल्यमापन केले जात नाही.
4) जवळपास 56 प्रजातींच्या झाडांच्या जाती कापण्याचे प्रस्तावित आहे. नुकसान भरपाई देणारी वृक्षारोपण या प्रकारच्या जैव-वैविध्यपूर्ण प्रजातींना लागवड करेल?
5) ही झाडे केवळ मोफत ऑक्सिजनच देत नाहीत तर प्रदूषित हवा देखील स्वच्छ करतात आणि माती धारण करतात.
6) २०१ In मध्ये इस्रोच्या आरसीसीने नागपूरमध्ये गेल्या काही दशकात ग्रीन कव्हर (क्षेत्रातील एक तृतीयांश) गहाळ झाल्याचा अहवाल दिला आहे. हे चिंताजनक आहे आणि अशा मोठ्या संख्येने झाडे तोडल्यामुळे हिरव्यागार आवरणामध्ये अधिक कपात होईल.
7) आयएमएस प्रकल्प हा एक लक्झरी प्रकल्प आहे ज्याचा पुनर्वसन करता येतो पण वृक्षांचे रोपण करता येणार नाही कारण मागील सर्व अनुभव अपयशी ठरले होते. नागपुरात पूर्वी झाडे लावलेली सर्व ट्रान्स्लोकेशन्स अयशस्वी ठरली आणि करदात्यांना मोठ्या प्रमाणात पैसे मोजावे लागले. सर्व्हायव्हल शून्य आहे. सर्व प्रजाती लिप्यंतरित केल्या जाऊ शकत नाहीत. नागपूर हवामान अशा प्रक्रियेस अनुकूल नाही.
8) कार्यकारी संस्थांचे नुकसान भरपाई वृक्षारोपण देखील बहुतेक कागदावर आणि अयशस्वी आहे. एनएचएआयची भरपाई वृक्षारोपण काम अयशस्वी आहे आणि बहुतेक प्रकल्पांमध्ये जगण्याचे दर खूपच कमी आहेत. म्हणूनच नुकसान भरपाईची कितीही झाडे बरीच वर्षे जुनी असलेल्या झाडे बदलू शकत नाहीत.
9) ही झाडे बर्‍याच पक्ष्यांसाठी निवासस्थान आहेत आणि सूक्ष्म हवामान नियंत्रित करतात. त्यांना कापायला पक्षी, कीटक जे परागकण घटक आहेत तसेच जैवविविधतेचे आवश्यक भाग नष्ट करतात.

वरील मुद्द्यांवरून आणि लक्षात आले की करदात्यांवरील अशा प्रकारच्या ‘पायाभूत विकासाचा’ जीवनाचा खर्च (मूलभूत हवा आणि पाणी) वंचित ठेवणे मला नागपूरसारख्या शहरात मोठ्या प्रमाणात विनाश करणाऱ्या दोषींवर तीव्र आक्षेप घेण्यास भाग पाडते.
धन्यवाद. तुमचा विश्वासू,

पेड़ों को उनके मूल स्थान से काटने और या उनके स्थानान्तरण पर आपत्ति (आईएमएस के लिए 4522 और परियोजना के लिए फ्लाईओवर के लिए 408)।





सेवा
वृक्ष प्राधिकरण एवं उद्यान अधीक्षक,
उद्यान विभाग,
नागपुर नगर निगम
सिविल लाइंस,
नागपुर- 440001

विषय: पेड़ों को उनके मूल स्थान से काटने और या उनके स्थानान्तरण पर आपत्ति (आईएमएस के लिए 4522 और परियोजना के लिए फ्लाईओवर के लिए 408)।

संदर्भ- सार्वजनिक सूचना विज्ञापन। नंबर 58/पीआर (दिनांक 29/05/2021 और फिर से नया नोटिस दिनांक 02/06/2021)

आदरणीय महोदय,
मैं अजनी में आईएमएस परियोजना के लिए और आईएमएस परियोजना स्थल की ओर जाने वाले उक्त फ्लाईओवर के लिए प्रस्तावित 4522 और 408 पेड़ों की कटाई/काटने और/या स्थानान्तरण का विरोध करता हूं। मैंने परिसर का दौरा किया है और विरोध के लिए मेरे कुछ बिंदु नीचे दिए गए हैं।
मेरी आपत्ति के बिंदु:
1) इन कटिंगों के कारण मनुष्यों के लिए मुक्त ऑक्सीजन उत्पादक स्रोतों का भारी नुकसान होगा। महामारी में कई नागरिकों ने सिलेंडर में ऑक्सीजन खरीदने के लिए अपनी गाढ़ी कमाई के हजारों खर्च किए हैं। माननीय। सुप्रीम कोर्ट ने पेड़ों से मिलने वाली ऑक्सीजन की कीमत को लेकर भी दिशा-निर्देश तैयार किए थे। यह अनुरोध किया जाता है कि काटे जाने वाले प्रस्तावित इन पेड़ों के बारे में जनता को जानने के लिए समान मूल्य तैयार किए जाएं।
2) भूमि एनएचएआई की नहीं है। फिर एनएमसी उन्हें उनके आवेदन के आधार पर अनुमति कैसे दे सकता है?
3) एनएचएआई केवल भागों में पेड़ों की कटाई/स्थानांतरण का विवरण दे रहा है (अर्थात आईएमएस चरण-1 में 4522 पेड़)। निर्माण के सभी चरणों के लिए कुल पेड़ों की संख्या क्यों नहीं दिखाई गई है? इस तथ्य को लेकर एनएमसी को अंधेरे में रखा गया है। कोई पर्यावरण मंजूरी नहीं ली जाती है। कोई पर्यावरण प्रभाव आकलन नहीं किया जाता है।
4) पेड़ों की लगभग 56 प्रजातियों की किस्मों को काटने का प्रस्ताव है। क्या प्रतिपूरक वृक्षारोपण इस प्रकार की जैव-विविध प्रजातियों का रोपण करेगा?
5) ये पेड़ न केवल मुफ्त ऑक्सीजन देते हैं बल्कि प्रदूषित हवा को भी साफ करते हैं और मिट्टी को पकड़ते हैं।
6) 2019 में इसरो के आरसीसी ने एक रिपोर्ट दी है जिसमें कहा गया है कि नागपुर में पिछले कुछ दशकों में 30% से अधिक हरित आवरण (क्षेत्र में एक तिहाई) खो गया है। यह चिंताजनक है और इतनी बड़ी संख्या में पेड़ों को काटने से हरित आवरण में और कमी आएगी।
7) आईएमएस परियोजना एक लक्जरी परियोजना है जिसे स्थानांतरित किया जा सकता है लेकिन पेड़ों को प्रत्यारोपित नहीं किया जा सकता क्योंकि पिछले सभी अनुभव विफल रहे थे। अतीत में नागपुर में पेड़ों के सभी स्थानांतरण विफल रहे हैं और करदाताओं के पैसे की एक बड़ी राशि खर्च हुई है। उत्तरजीविता शून्य है। सभी प्रजातियों का अनुवाद नहीं किया जा सकता है। नागपुर की जलवायु ऐसी प्रक्रियाओं के अनुकूल नहीं है।
8) निष्पादन एजेंसियों का प्रतिपूरक वृक्षारोपण भी ज्यादातर कागजों पर होता है और असफल होता है। एनएचएआई प्रतिपूरक वृक्षारोपण कार्य असफल है और अधिकांश परियोजनाओं में जीवित रहने की दर बहुत कम है। इसलिए कितने भी प्रतिपूरक वृक्षारोपण कई वर्ष पुराने कटे हुए पेड़ों की जगह नहीं ले सकते।
9) ये पेड़ कई पक्षियों के आवास हैं और सूक्ष्म जलवायु को नियंत्रित करते हैं। उन्हें काटने से पक्षियों के घर, परागण करने वाले कीट और साथ ही जैव विविधता के आवश्यक हिस्से नष्ट हो जाएंगे।
उपरोक्त बिंदु और यह अहसास कि करदाताओं पर इस तरह के 'बुनियादी विकास' से जीवन की लागत (बुनियादी हवा और पानी) से वंचित होना मुझे नागपुर जैसे शहर में बड़े पैमाने पर विनाश के ऐसे अपराधियों के खिलाफ कड़ी आपत्तियां उठाने के लिए मजबूर करता है।

धन्यवाद।

आपका विश्वासी,